उत्तर प्रदेश

कचैड़ा में हर वर्ष 15 दिसंबर को होगी शहीद ज्ञानचंद खेल प्रतियोगिता

कचैड़ा में हर वर्ष 15 दिसंबर को होगी शहीद ज्ञानचंद खेल प्रतियोगिता

आकाश नागर, ग्रेटर नोएडा 

आज की युवा पीढ़ी को सेना के लिए तैयार करने हेतु खेलकूद जरूरी है । जब युवा खेलकूद करेगा तो उसका शारीरिक के साथ-साथ मानसिक विकास भी होगा । इसी पद्धति को मानते हुए आज कचैड़ा गांव में हर वर्ष 15 दिसंबर के दिन शहीद ज्ञानचंद नागर के नाम पर खेलकूद प्रतियोगिता कराने की घोषणा की गई । घोषणा कचैड़ा के पूर्व प्रधान भूमेश नागर ने की। इस घोषणा को आगे बढ़ाते हुए मास्टर यशवीर सिंह नागर ने कहा कि वह हर वर्ष 51000 रुपए इस खेलकूद प्रतियोगिता के लिए आर्थिक सहायता देंगे ।

मौका था सन 1971 के भारत पाक युद्घ में देश की सेवा करते हुए शहीद हुए गांव कचैडा के लाल लांस नायक वीर चक्र विजेता ज्ञानचंद नागर की 48 वी पुण्यतिथि पर गांव के मुख्य चौराहे पर उनकी प्रतिमा अनावरण का । प्रतिमा अनावरण के मौके पर उत्तर प्रदेश, दिल्ली और हरियाणा के हजारों लोग श्रद्धांजलि देने कचैड़ा गांव पहुंचे । इनमें फरीदाबाद के विधायक नगेंद्र भडाणा के साथ ही दादरी विधायक तेजपाल नागर तथा समाजवादी पार्टी के पूर्व अध्यक्ष फकीरचंद नागर के साथ ही पूर्व जिला पंचायत सदस्य रविंद्र भाटी और मेजर रुपसिंह नागर ने भी शहीद ज्ञानचंद नागर को श्रद्धांजलि अर्पित की । इस दौरान राष्ट्रीय लोकगीत कलाकार महाशय टीकम नागर में देश भक्ति की रागनियां गाकर कार्यक्रम में मौजूद लोगों में जोश भर दिया । महाशय टीकम नागर ने लोकगीत के माध्यम से शहीद ज्ञान चंद नागर को श्रद्धांजलि देते हुए जब गाया ..”घायल हो गया शेर महारा , पर फिर भी ना घबराया , दुश्मन मारे 5 , ज्ञानचंद फिर मन में हरसाया ” । इस रागनी को सुनकर लोगों के रोंगटे खड़े हो गए । इस दौरान टीकम सहित उनकी टीम के कलाकारों की लोगों ने जमकर हौसला अफजाई की ।

इस अवसर पर दादरी के विधायक मास्टर तेजपाल नागर ने कहा कि देश में आज मोदी जी के नेतृत्व में महत्वपूर्ण योजनाओं का लाभ दिया जा रहा है। देश आगे बढ रहा है। साथ ही नागर ने माना कि उन्होने महाराजा नैन सिंह इंटर कालिज के लिए मान्यता दिलाने का पूर्व में वादा किया था। जिसपर पर आज भी अडिग है इसके लिए उन्होने स्कूल की कमेटी से कहा कि वह मानक पूरे करने और कागजी कार्यवाही पूरी करे। विधायक ने यह भी कहा कि उनकी सरकार सडकों के नाम शहीदो के नाम पर रख रही है। कचैडा रोड का नामांकरण वीर चक्र विजेता शहीद ज्ञानचंद नागर मार्ग किया जाएगा। इसी के साथ विधायक तेजपाल नागर ने गांव के युवाओ पर पिछले साल लगे रोड जाम के मुकदमे खत्म कराने का भी आश्वासन दिया और कहा कि इसकी प्रकिया शुरू की जा चुकी है।

फरीदाबाद के विधायक नगेंद्र भडाणा ने कहा कि वह भी हरियाणा सरकार से शहीद के आश्रितो के लिए महत्वपूर्ण योगदान कराने की तरफ पहल करेंगे। उन्होने बताया कि हरियाणा सरकार शहीद परिवारो को विशेष सम्मान दे रही है। इस अवसर पर शहीद ज्ञानचंद नागर की पत्नी प्रेमवती और उनके दोनों सुपुत्र प्रताप सिंह और रोहताश सिंह मंच पर मौजूद रहे । मंच संचालन 22 राजपूत बटालियन के पूर्व सैनिक महकार सिंह ने किया। महकार सिंह वही सख्श है जो कचैडा गांव में मूर्ति स्थापना के लिए कई सालो से प्रयासरत थे। आकर्षण का केंद्र 22 राजपूत बटालियन के वे पूर्व सैनिक रहे जिन्होने शहीद ज्ञानचंद नागर की शोर्य गाथा को सैल्यूट करते हुए उनकी वीरता की कहानियों को लोगों के सामने रखा। करीब सवा सौ पूर्व सैनिकों की उपस्थिति से कार्यक्रम में चार चांद लग गए । इनमे ज्यादातर वह सैनिक थे जो लांस नायक शहीद ज्ञानचंद के साथ सेना में रहे थे ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close