jhakhand

तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार से शीतकालीन सत्र में जातीय गणना कराने की घोषणा करने की मांग कर दी

तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार से शीतकालीन सत्र में जातीय गणना कराने की घोषणा करने की मांग कर दी

PATNA:-बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने फिर से जातीय जनगणना का राग छेड़ा है और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से इसी शीतकालीन सत्र के दौरान बिहार विधानसभा में अपने राज्य के पैसे से यहां जातीय जनगणना कराने की घोषणा की मांग की है।

मंगलवार को विधानसभा परिसर में शराब की खाली बोतल का मुद्दा उठााकर तेजस्वी ने सीएम नीतीश कुमार को घेरने की कोशिश की थी और आज उऩ्हौने फिर से जातीय गणना के मुद्दा उठाकर नीतीश कुमार को घेरने की कोशिश की ।इसके लिए तेजस्वी यादव ने विधानसभा परिसर में अपने बड़े भाई तेजप्रताप और अन्य विधायकों की मौजुदगी में मीडिया से अलग से बात की।तेजस्वी यादव ने कहा कि विधानसभा के ग्रीष्मकालीन सत्र में उनकी पहल पर सीएम नीतीश कुमार ने जातीय गणऩा के मुद्दे पर सर्वदलीय समिति बनाकर पीएम नरेन्द्र मोदी से मिलने का निर्णय लिया था और नीतीश कुमार जी के नेतृ्त्व में उनलोगों ने पीएम से मिलकर नरेन्द्र मोदी जी से मुलाकात कर अपनी बात रखी थी पर केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने फिर से संसद में एक सवाल के जवाब में जातीय गणना कराने की किसी भी निर्णय से इंकार किया है।ऐसे में नीतीश कुमारजी को राज्य सरकार के स्तर से बिहार मे जातीय गणना कराने के लिए निर्णय जल्द लेना चाहिेए.

तेजस्वी यादव ने कहा कि अक्टूबर माह में नीतीशजी ने कहा था कि तारापुर और कुशेश्वर स्थान के उपचुनाव के बाद सरकार जातीय गणना को लेकर कोई निर्णय लेगी पर उस उपचुनाव के रिजल्ट को भी अब महीना भर होनेवाला है।इसलिए उनकी नीतीश कुमारजी से मांग है कि जब अपने पर आई है तो वह पीछे भागे नहीं और जल्द निर्णय लेते हुए इसी शीतकालीन सत्र में जातीय गणना कराने के निर्णय की घोषणा करें।

तेजस्वी ने कहा कि जातीय गणना से समाज के सभी वर्गो को लाभ मिलेगा क्योकि इस जनगणना से यह पता चल सकेगा कि किस जाति की कितनी आबादी है और उनकी आर्थिक एवं समाजिक स्थिति क्या है।उसी के आधार पर सरकार अपने योजना बना सकेगी।

वहीं विधानसभा परिसर में मिले शराब की खाली बोतल के डीजीपी और मुख्य सचिव द्वारा जांच किए जाने के मीडिया के सवाल का जवाब देते हुए तेजस्वी यादव ने जांच की व्यवस्था पर सवाल उठाया।तेजस्वी ने कहा कि डीजीपी और मुख्य सचिव कचरा में जाकर जांच कर रहें हैं जबकि जांच इस बात की होनी चाहिए कि शराब की बोतल यहां कैसे पहुंची..जांच इस बात की होनी चाहिए कि कितने बोर्डर क्रास करके शराब की तस्करी हो रही है।इन लोगों की ऐसी जांच पड़ताल की वजह से ही बिहार की बदनामी हो रही है।

वहीं नीतीश कुमार द्वारा उनकी चिट्टी का सोसल मीडिया में शेयर करने के मीडिया के सवाल के जवाब में तेजस्वी ने कहा कि वे हरेक चिट्टी को मुख्यमंत्री सचिवालय में रिसीव कराने के बाद ही सीसल मीडिया में शेयर करतें हैं और नीतीश कुमारजी के ट्वीटर अकाउंट से टैग कर देतें हैं ताकि उन्हें दोनो तरफ से चिट्टी मिल जाए,पर उनके पास चिट्टी सही समय पर नहीं पहुंच पाती है क्योकि उनके पहुंचने से पहले चिट्टी कई कई लेयर होकर गुजरती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close