jhakhand

वित्त विभाग की मिली अनुमति तो राज्य के प्लस टू स्कूलों में 510 प्राचार्य होंगे नियुक्त

वित्त विभाग की मिली अनुमति तो राज्य के प्लस टू स्कूलों में 510 प्राचार्य होंगे नियुक्त

Ranchi : राज्य गठन के बाद पहली बार नियमावली के तहत और पद सृजित करते हुए प्लस टू स्कूलों में प्राचार्य के पद पर सीधी नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू होने जा रही है. अभी पद सृजन और नियुक्ति प्रक्रिया से संबंधित फाइल वित्त विभाग को भेजी गई है. अगर वित्त विभाग ने इस पर अपनी सहमति दी तो साल 2022 की पहली छमाही तक राज्य के प्लस 2 स्कूलों में 510 प्राचार्यो की नियुक्ति का विज्ञापन जारी कर दिया जाएगा. अभी इससे संबंधित फाइल वित्त विभाग के पास है. इसके बाद कैबिनेट से अनुमति मिलते ही नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी. बताते चलें कि साल 2012 में पहली बार प्राचार्यो की नियुक्ति के लिए नियमावली बनाई गई थी. लेकिन पद सृजन नहीं होने की वजह से नियुक्ति प्रक्रिया नहीं हो पाई थी. अब विभाग ने पद सृजित करते हुए नियमावली को अग्रसारित किया है.

प्राचार्य की नियुक्ति के लिए लिखित परीक्षा

राज्य के 510 प्लस 2 स्कूलों में प्राचार्य की नियुक्ति के लिए लिखित परीक्षा ली जाएगी. यह परीक्षा झारखंड लोक सेवा आयोग की ओर से आयोजित की जाएगी. नियमावली के मुताबिक 67 फ़ीसदी प्राचार्य के पदों पर सीधी नियुक्ति के माध्यम से बहाली होगी. इस सीधी नियुक्ति के पदों पर बहाल होने के लिए आवेदन कर्ता के पास 8 साल का अनुभव होना चाहिए. वही न्यूनतम उम्र सीमा 35 वर्ष और अधिकतम 50 वर्ष निर्धारित की गई है. नियमावली के अनुसार झारखंड लोक सेवा आयोग 200 अंकों की लिखित परीक्षा लेगा. परीक्षा में प्रश्न स्नातक स्तर के होंगे. इस परीक्षा में पास होने के लिए 50 फ़ीसदी अंक लाना अनिवार्य होगा. आरक्षित श्रेणी के उम्मीदवारों को 5 फ़ीसदी तक की छूट दी जाएगी.

21 साल में खुले 400 से अधिक प्लस टू स्कूल

राज्य में वर्तमान में 510 प्लस टू स्कूल है. इसमें से 59 विद्यालय एकीकृत बिहार के समय से हैं, जबकि राज्य गठन के 21 साल बाद अब स्कूलों की संख्या 400 से अधिक है. इसमें से साल 2006-2007 में 171 हाई स्कूलों को अपग्रेड करके प्लस टू स्कूल बनाया गया. इसके बाद 2015-16 में 280 हाई स्कूलों को प्लस टू में उत्क्रमित किया गया.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close