अवर्गीकृत

वित्त मंत्री के बयान पर कांग्रेस विधायक ने किया पलटवर कहा – बिहार में अन्याय हुआ तो यहां भी करेंगे

रांची ;  सरकार में शामिल बरही के कांग्रेस विधायक उमाशंकर अकेला वित्त मंत्री रामेश्वर उरावं के द्वारा मीडिया बयान पर पलटवार किया कहा कि राज्य में मगही व भोजपुरी को भी मान्यता मिलनी चाहिए. राज्य के कई जिलों में भोजपुरी, मगही भाषा बोली जाती है। क्षेत्रीय भाषा को लेकर उपजे विवाद पर कहा कि  मान्यता दे देने से कोई पहाड़ टूटने वाला नहीं है. कोई बड़ी चीज नही है.   वहां अन्याय हुआ तो यहां पर भी अन्याय करेंगे।   गौरतलब यह है की  पिछले दिनों जामताडा  में राज्य के वित्त मंत्री रामेश्वर उरांव ने कहा  बिहार में संथाली भाषा को मान्यता नहीं दी गई है,हमलोग झारखंड का बिहारीकरण नहीं होने देंगे। ।  विधायक उमाशंकर अकेला जितने भी अबतक सीएम बने हैं हेमंत सोरेन सबसे लिबरल सीएम हैं. गठबंधन की सरकार की सोच अच्छी है. कोरोना काल में विकास की रफ्तार धीमी पड गयी थी, पर अब जोर पकड़ रही है. धीरे-धीरे विकास को लेकर आगे बढ़ रही है.   विधायक ने जातीय जनगणना की मांग करते हुए कहा कि जातियों की संख्या के आधार पर आरक्षण दे दिया जाये. आरक्षण नहीं मिलने से पिछड़ रहे हैं. उन्होंने नमाज  कक्ष को लेकर  कहा  कुछ लोग हौव्वा क्रिएट कर रहा है, इसमें कोई बडी चीज नहीं हैं. सभी धर्म को समान मानते हैं हमलोग. भाजपा का एक स्टैंड है. भाजपा को सिर्फ मुसलमान दिखाई पडता है. भाजपा के बडे नेताओं का इतिहास रहा है कि कोई भी भारतीय इतिहास में आंदोलन नही किया है. गौरतलब यह है बरही विधायक उमाशंकर अकेला.राज्य विधानसभा की निवेदन समिति सभापति है  अपने दो दिवसीय दौरे पर बुधवार 22 सितंबर को सरायकेला खरसावां पहुंची. टीम ने जिला के अधिकारियों संग बैठक कर सरकार द्वारा संचालित विभिन्न विकास योजनाओं की समीक्षा करते हुए मीडिया से मुखातिब होते हुए कहा कांग्रेस विधायक उमाकांत अकेला ने गुरुवार को मीडिया में बातचीत में कहा कि राज्य के अधिकारी बेलगाम हैं। प्रशासन का मनोबल बढ़ा हुआ है। उन्होंने इसका ठीकरा पूर्व की भाजपा सरकार व मुख्यमंत्री रघुवर दास पर फोड़ते हुए कहा कि पूर्ववर्त्ती भाजपा सरकार की गलतियों को सुधार करने में वर्ततमान सरकार का पसीना छूट रहा है।

 

 

 

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close