अवर्गीकृत

बदायूं से सामने आई एक बार फिर निर्भया जैसी हैवानियत, बलात्कार कर….

उत्तरप्रदेश: उत्तर प्रदेश के बदायूं से एक बार फिर निर्भया जैसी हैवानियत देखने को मिला है.जहाँ एक 50 वर्षीय महिला की गैंगरेप के बाद हत्या कर दी गयी. महिला का शव संदिग्ध हालत में मिली. जिसके बाद इलाके में सनसनी फैल गयी और लोग आक्रोशित हो गये.इधर खबर मिलन के बाद पुलिस जांच में जुट गयी और दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है.अब इस मामले में राष्ट्रीय महिला आयोग ने भी संज्ञान ले लिया है.

राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने कहा, मैंने इसका तुरंत संज्ञान लिया है. चिट्ठी लिखने के साथ-साथ आज ही मेरी एक सदस्य बदायूं जा रही हैं. वे परिवार और पुलिस से मिलेंगी और देखेंगी की इसमें कार्रवाई ठीक से हुई है या नहीं.
अगर हुई है तो कितनी हुई है.इधर बदायूं के SSP ने घटना के बारे में बताया, एक 50 वर्षीय महिला की संदिग्ध परिस्थितियों में मृत्यु के संदर्भ में IPC की धारा 302 और 376D के अंतर्गत मुकदमा दर्ज किया गया. दो अभियुक्त को गिरफ्तार किया गया है. प्रारंभिक जांच में लापरवाही बरतने के दोषी पाए जाने के कारण तत्कालीन थाना प्रभारी को निलंबित किया जा रहा है. गौरतलब है कि महिला मंदिर में पूजा-अर्चना करने गयी थी. जहां संदिग्ध हालत में उसकी लाश मिली.

बताया जा रहा है कि महिला के साथ निर्भया जैसी हैवानियत की गयी है. गैंगरेप के बाद महिला के गुप्तांग में रॉड डाल दिया गया था. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में महिला से बलात्कार की पुष्टि हुई है और रिपोर्ट में गुप्तांग में चोट के निशान तथा पैर की हड्डी टूटी पाई गई है.मंदिर के महंत समेत तीन लोगों के खिलाफ सामूहिक बलात्कार और हत्या का मामला दर्ज

इस मामले में मंदिर के महंत समेत तीन लोगों के खिलाफ सामूहिक बलात्कार और हत्या का मामला दर्ज किया गया है. वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक संकल्प शर्मा ने बताया कि गत रविवार को एक गांव में मंदिर गयी 50 वर्षीय एक महिला की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई.

उन्होंने बताया कि परिजन ने मंदिर के महंत सत्य नारायण और उसके दो साथियों पर बलात्कार और हत्या का आरोप लगाया है. आरोपी महंत फरार है, उसे गिरफ्तार करने के लिए चार दल बनाए गए हैं. शर्मा ने बताया कि इस मामले में लापरवाही बरतने के आरोप में थाना प्रभारी को निलम्बित कर दिया गया है.

वही महिला के बारे में बताया जा रहा है कि वो पेशे से आंगनवाड़ी सहायिका थी. घटना के बारे में महिला के बेटे ने कहा कि घर के लोग महंत सत्य नारायण और उसके साथ आए लोगों से कुछ पूछ पाते, उससे पहले ही वे यह कहकर चले गए कि मन्दिर से घर लौटते समय महिला रास्ते में एक सूखे कुएं में गिर गई थी और उसकी चीख-पुकार सुनकर उन्होंने उसे कुएं से बाहर निकाला और घर लेकर आए हैं.

Related Articles

Close
Close